Mera Pani Meri Virasat Registration, मेरा पानी मेरी विरासत योजना: आनलाइन आवेदन

मेरा पानी मेरी विरासत योजना रजिस्ट्रेशन, Mera Pani Meri Virasat Yojna scheme form

हरियाणा प्रदेश में पानी की कमी को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर जी ने मेरा पानी मेरी विरासत योजना का शुभारंभ किया| प्रदेश में ऐसे बहुत से क्षेत्र है जहां पर पानी का स्तर बहुत नीचे हो गया और उन्हें डार्क जोन में शामिल किया गया | प्रदेश में धान तथा गेहूं जैसी अधिक पानी वाली फसलों की लगातार बुवाई के कारण भूमिगत जल का स्तर नीचा हो गया ऐसे में वैकल्पिक फसलों की बुवाई के लिए प्रदेश के किसानों को ₹7000 प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दी जा रही है ताकि भूमि का जल स्तर प्राकृतिक हो जाए | Haryana Mera Pani Meri Virasat Scheme हरियाणा सरकार की ओर सेे उठाया गया एक सराहनीय कदम है |

Mera Pani Meri Virasat scheme

हरियाणा राज्य में 19 ब्लॉक है जिनमें से 8 ब्लॉक में भूमिगत जल स्तर बहुत नीचा हो गया है तथा भूमिगत जल सर 40 मीटर से अधिक गहराई पर है धान तथा गेहूं की अतिरिक्त खेती होने के कारण सिरसा फतेहाबाद , कुरुक्षेत्र , इस्लामाबाद ,पिपली तथा बब्बन जैसे इलाकों को डार्क जोन घोषित कर दिया गया है | इन क्षेत्रों में वैकल्पिक फसलें जैसे मूंग, उड़द, अरहर, तिल ,कपास तथा सब्जी की खेती करने को प्रोत्साहन दिया जा रहा है तथा इन क्षेत्रों में हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अनुसार 50 हॉर्स पावर से अधिक लिमिट वाले  नलकूप चलाने के लिए भी मना ही है| Mera Pani Meri Virasat Yojna के अनुसार 35 मीटर से अधिक भूमिगत जलस्तर वाली पंचायती जमीन पर धान की खेती नहीं की जा सकती है| 

मेरा पानी मेरी विरासत उद्देश्य

प्रदेश में जल संरक्षण के उद्देश्य को लेकर इस योजना की शुरुआत की गई ताकि हम आने वाली पीढ़ियों के लिए जल संरक्षित रख पाए| इस योजना के अनुसार प्रदेश में धान तथा गेहूं जैसे अधिक पाने वाली खेती न करके वैकल्पिक फसलें उगाई जा रही है तथा उनकी बुवाई के लिए हरियाणा मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत किसानों को प्रोत्साहन राशि भी प्रदान की जा रही है| फसल के इस विविधीकरण से मिट्टी को स्वस्थ रखा जा सकता है तथा भू संरक्षण भी किया जा सकता है| यही कारण है कि वैकल्पिक फसलों की बुवाई का 40% तक खर्चा राज्य सरकार वहन कर रही है|

मेरा पानी मेरी विरासत योजना की विशेषताएं

  • Mera Pani Meri Virasat Yojna  भू संरक्षण तथा जल संरक्षण के लिए सरकार का सराहनीय कदम है|
  • प्रदेश में वैकल्पिक फसलें उगाने से मृदा को स्वस्थ रखा जा सकता है| 
  • मक्का जैसी फसलों की बुआई के लिए प्रदेश सरकार की ओर से 40% तक खर्च दिया जा रहा है|
  • डार्क जोन क्षेत्रों में धान जैसी फसलों की बुवाई छोड़ने वाले किसानों को ₹7000 प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि दी जा रही है|
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत प्रदेश सरकार के द्वारा वेब पोर्टल की स्थापना की गई है जहां किसान अपना नाम रजिस्टर करवा सकते हैं तथा प्रोत्साहन राशि में अपनी विभिन्न समस्याओं के बारे में जानकारी पा सकते हैं|
  • मेरा पानी मेरी विरासत वेब पोर्टल पर कृषि के आधुनिकीकरण से संबंधित सभी जानकारियां उपलब्ध है तथा कृषि यंत्र अनुदान भी दिया जा रहा है|

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लाभ

  • प्रदेश के  किसानों को आधुनिक कृषि पद्धतियों से परिचित कराना|
  • भू संरक्षण तथा जल संरक्षण
  • कृषि यंत्र  अनुदान योजना के तहत 80% सब्सिडी सरकार की ओर से दी जाएगी|
  • वैकल्पिक फसलों मक्का अरहर मूंग उड़द तिल तथा कपास पर किसानों को एमएसपी मिलेगा|
  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करवाने वाले किसानों को ₹7000 प्रति एकड़ के हिसाब से प्रोत्साहन राशि सरकार की ओर से दी जा रही है|

मेरा पानी मेरी विरासत योजना हरियाणा आवेदन के लिए प्रपत्र

  • इस योजना के तहत केवल प्रदेश के मूल निवासी ही आवेदन कर सकते हैं
  • आवेदक का वोटर कार्ड या पहचान पत्र
  • परिवार पहचान पत्र या आधार कार्ड
  • जमीन के कागजात तथा बैंक अकाउंट की पासबुक
  • आवेदक का मोबाइल नंबर या पासपोर्ट साइज की तस्वीर

मेरा पानी मेरी विरासत योजना रजिस्ट्रेशन

  • सबसे पहले मेरा पानी मेरी विरासत की ऑफिशल वेबसाइट http://117.240.196.237/ पर जाएं|
  • होम पेज पर आपको न्यू रजिस्ट्रेशन की चॉइस दिखाई देगी|
  • अगली इंटरफ़ेस पर आप से मांगी गई सारी जानकारियों का ब्यौरा देना होगा जिसमें आपका आधार कार्ड नंबर ,कुल जमीन तथा बोई जाने वाले फसलों के बारे में जानकारी मांगी जाएगी|
  • सावधानीपूर्वक सारी जानकारी जमा करके आप अपना नाम पंजीकृत कर लेंगे

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का आवेदन

  • मेरा पानी मेरी विरासत का मुख्य उद्देश्य भूमि संरक्षण है इसी कारण बाढ़ प्रभावित क्षेत्र भी इसी योजना के अंतर्गत आते हैं|
  • बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का आवेदन करने के लिए भी आपको Mera Pani Meri Virasat की वेबसाइट http://117.240.196.237/ पर आवेदन करना होगा
  • होम पेज पर आपको बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लिए विकल्प का चॉइस दिखाई देगा
  • इस बटन को क्लिक करते ही अगले इंटरफेस में आपको रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखाई देगा जहां आपसे आपकी तथा आपकी जमीन से संबंधित सभी जानकारियां मांगी जाएंगी|
  • सभी सटीक जानकारियां भरने के पश्चात आप इस पोर्टल पर अपना नाम पंजीकृत कर सकते हैं

मेरा पानी मेरी विरासत हेल्प लाइन नंबर

दिए गए निबंध में हमने आपको मेरा पानी मेरी विरासत योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया है परंतु अपने अन्य प्रश्नों के उत्तर हेतु आप नीचे दिए गए कांटेक्ट नंबर पर संपर्क कर सकते हैं:-

Helpline Number:- 18001802117

 पत्राचार संपर्क:    कृषि एवं विकास कल्याण विभाग,  कृषि भवन ,सेक्टर 21 पंचकूला

E-mail:- agriharyana2009@gmail.com, psfcagrihry@gmail.com

 

 

 

Leave a Comment